29 जुलाई से शुरू होगी हज यात्रा, 1000 लोगों को ही मिली इजाजत

कोरोना महामारी के बीच सऊदी सरकार ने अपना पुराना फैसला पलटते हुए सिर्फ 1 हजार विदेशियों को ही हज (Haj pilgrimage) अदा करने की मंजूरी दी है। यह मंजूरी भी उन्हीं विदेशियों को मिली है जो फिलहाल सऊदी अरब में रह रहे हैं।

हज यात्रा इस साल 29 जुलाई से शुरू होगी। हर साल हज के लिए करीब 25 लाख लोग सऊदी अरब पहुँचते है। इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए नियमों में बदलाव कर दिया गया। जिसके तहत  65 साल से कम उम्र के लोग की हज यात्रा पर जा सकेंगे और उन्हें कोई भी गंभीर बीमारी नहीं होनी चाहिए।

सऊदी अरब के हज मंत्री मोहम्मद बेनतेन ने रियाद में कहा कि हाजियों की संख्या एक हजार के आसपास ही रहेगी। यह उससे थोड़ी कम भी हो सकती है और थोड़ी ज्यादा भी। लेकिन यह सैकड़ों या हजारों में बिल्कुल नहीं रहेगी। बता दें कि अरब गल्फ राज्यों में सबसे ज्यादा मामले सऊदी अरब में सामने आए हैं। सऊदी में अबतक 2,53,349 कोरोना केस की पुष्टि हुई है। जिसमें से 2,523 लोगों की मौ’त हुई है।

सऊदी अरब के स्वास्थ्य मंत्री तौफीक अल रबीह ने कहा कि इस बार हज के लिए केवल उन लोगों को ही अनुमति मिलेगी। जिनकी उम्र 65 साल से कम होगी और उन्हें किसी तरह की कोई बीमारी नहीं होगी। चयनित होने वाले लोगों का मक्का पहुंचते ही कोरोना वायरस का टेस्ट होगा। हज करने के बाद उन लोगों को अपने घर पर जाकर क्वारंटीन पीरियड भी पूरा करना होगा।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सऊदी अरब सरकार में हज मंत्री से सोमवार शाम बात हुई। कोरोना संकट का जिक्र करते हुए उन्होंने इस साल भारत से हज-2020 के लिए यात्रियों को नहीं भेजने का आग्रह किया। सऊदी अरब सरकार के फैसले का सम्मान करते हुए केंद्र ने इस साल किसी यात्री को नहीं भेजने का फैसला किया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE