त’ख्तापलट की साजिश रचने वालों को जॉर्डन ने दी 15 साल जे’ल की स’जा

जॉर्डन की एक अदालत ने अप्रैल में असफल त’ख्तापलट की साजिश के दो मुख्य आरोपियों को कड़ी मेहनत के साथ 15 साल जे’ल की स’जा सुनाई।

जानकारी के अनुसार, सऊदी क्राउन प्रिंस, मुहम्मद बिन सलमान (एमबीएस) के विश्वासपात्र और जॉर्डन के पूर्व मंत्री शरीफ हसन बिन ज़ैद को पूर्व क्राउन प्रिंस हमजा के साथ विदेशी दु’श्मनों से संपर्कों के चलते गिर’फ्तार किया गया था। इन दोनों पर विदेशी मदद लेकर किंग अब्दुल्लाह के खिलाफ अशांति फैलाने की साजिश रचने का आरोप लगाया गया था।

इस मामले में अप्रैल से क्राउन प्रिंस हमजा को नजरबंद भी रखा गया है। वहीं साजिश में शामिल होने के आरोप में बारह अन्य लोगों को भी हिरा’सत में लिया गया था। गिर’फ्तारी के समय, जॉर्डन और ट्रम्प प्रशासन के बीच संबंध अपने सबसे निचले स्तर पर थे।

दरअसल, किंग अब्दुल्ला ने ट्रम्प प्रशासन के तथाकथित ‘डील ऑफ सेंचुरी’ का कड़ा विरोध किया था। रिपोर्टों के अनुसार, किंग अब्दुल्लाह पर यरूशलेम पर इस्रा’एल को रियायतें देने का दबाव बढ़ रहा था।

उस समय नेत’न्याहू सरकार के साथ तनाव ने कई विश्लेषकों को यह अनुमान लगाने के लिए प्रेरित किया कि यदि इज़’राइल ने उस साजिश का सक्रिय रूप से समर्थन नहीं किया, तो उसने कम से कम इसका विरो’ध नहीं किया।