‘तख्तापलट’ मामले में जॉर्डन की अदालत ने प्रिंस हमजा को दी बड़ी राहत

जॉर्डन की एक सै’न्य अदालत ने कल ‘तख्तापलट’ मामले में प्रिंस हमजा की गवाही देने के बचाव अनुरोध को खारिज कर दिया, जिस पर राजशाही को अस्थिर करने का आरोप है।

किंग अब्दुल्ला द्वितीय के सौतेले भाई हमजा आरोपों के केंद्र में हैं, लेकिन उन्होंने किंग अब्दुल्ला के प्रति निष्ठा का वचन देकर अप्रैल में स’जा से खुद को बचा लिया।

4 अप्रैल को, जॉर्डन के अधिकारियों ने घोषणा की कि प्रारंभिक जांच में पाया गया कि 41 वर्षीय प्रिंस हमजा ने “देश में सुरक्षा को अस्थिर करने और नागरिकों को राज्य के खिलाफ भड़काने” के लिए विदेशी निकायों के साथ समन्वय किया था।

हालांकि प्रिंस हमजा ने एक वीडियो में आरोपों का खंडन किया। जिसमें उन्होंने यह भी कहा कि वह घर में नजरबंद हैं। उन्हे किसी से भी मिलने नहीं दिया जा रहा।

इस कार्रवाई के तहत जॉर्डन के शाही दरबार के पूर्व निदेशक बासेम अवदल्लाह सहित बीस लोगों को गि’रफ्तार किया गया था।