ईरान के राष्ट्रपति चुनाव में अहमदीनेजाद भी होंगे उम्मीदवार

अपने कड़ी बयानों और छवि को लेकर पहचाने जाने वाले देश के पूर्व राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद आगामी जून में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में फिर से उम्मीदवार होंगे। उन्हे हाल ही में पंजीकरण करते हुए देखा गया है। ईरान के सरकारी टेलीविजन ने बताया है कि अपने समर्थकों की भीड़ संग अहमदीनेजाद गृह मंत्रालय पहुंचे और अपना रजिस्ट्रेशन करवाया।

अहमदीनेजाद ने हाल के वर्षों में कुशासन के लिए सरकार की आलोचना करते हुए, अपनी कट्टर छवि को एक अधिक केंद्रित उम्मीदवारी में चमकाने की कोशिश की है। अहमदीनेजाद को पहले सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई द्वारा 2017 में राष्ट्रपति पद के चुनाव में शामिल होने से प्रतिबंधित कर दिया गया था।

खामेनी का कहना है कि वह किसी भी उम्मीदवार के नामांकन का विरोध नहीं करेंगी, हालांकि चुनावी परिषद अभी भी अहमदीनेजाद की उम्मीदवारी को रोक सकती है। वहीं राष्ट्रपति हसन रूहानी की दोबारा वापसी संभव नहीं दिख रही है।उनकी लोकप्रियता में भी भारी गिरावट आई है।

इसके अलावा वर्तमान न्यायपालिका प्रमुख अब्राहिम रायसी भी राष्ट्रपति चुनाव की दोड़ में शामिल हैं। 2017 में भी वह मैदान में उतरे थे, लेकिन उन्हें हसन रुहानी के हाथों हार मिली। अगर रायसी मैदान में आते हैं तो वह इस पद के शीर्ष दावेदार हो सकते हैं।

संसद के स्पीकर मोहम्मद बाघेर गालिबाफ भी चुनाव लड़ने वाले हैं। पिछले चुनाव में उन्होंने रायसी का समर्थन करते हुए नामांकन वापस ले लिया था। लेकिन इस बार उन्होंने कहा है कि वह ऐसा नहीं करने वाले हैं। इसके अलावा, होसेन देहघन और सईद मोहम्मद जैसे देश के दो बड़े सै’न्य अधिकारी भी मैदान हैं।