ईरान बोला – अमेरिका तेल से शिपिंग प्रतिबंध हटाने पर सहमत हो गया

ईरान ने बुधवार को कहा कि वाशिंगटन वैश्विक शक्तियों के साथ तेहरान के 2015 के परमा’णु समझौते को पुनर्जीवित करने के लिए बातचीत में ईरान के तेल और शिपिंग पर सभी प्रतिबंधों को हटाने पर सहमत हो गया। ये ईरान के लिए एक बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।

निवर्तमान राष्ट्रपति हसन रूहानी के चीफ ऑफ स्टाफ चीफ ऑफ स्टाफ महमूद वेजी ने बताया, “(पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड) ट्रम्प द्वारा लगाए गए सभी बीमा, तेल और शिपिंग प्रतिबंधों को हटाने के लिए एक समझौता किया गया है।” उन्होने कहा, “समझौते के तहत लगभग ट्रम्प-युग के 1,040 प्रतिबंध हटा दिए जाएंगे।”

इसके अलावा सर्वोच्च नेता से जुड़े व्यक्तियों पर से भी कुछ प्रतिबंध हटाने पर भी सहमति हुई। हालांकि अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने रविवार को कहा कि अभी भी “यात्रा करने के लिए एक उचित दूरी” है। जिसमें प्रतिबंधों और ईरान द्वारा किए जाने वाले पर’माणु प्रतिबद्धताओं पर भी शामिल है।

ईरान 2015 में अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों को हटाने के बदले में अपने पर’माणु कार्यक्रम पर अंकुश लगाने के लिए सहमत हुआ था। लेकिन ट्रम्प ने तीन साल बाद समझौते को छोड़ दिया और प्रतिबंधों को फिर से लागू कर दिया। जिसके बाद से लगातार ईरान परमाणु सीमाओं का उ’ल्लंघन कर रहा है।

ईरानी और पश्चिमी अधिकारियों का समान रूप से कहना है कि रायसी के उदय से ईरान की बातचीत की स्थिति में बदलाव की संभावना नहीं है, क्योंकि सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई पहले से ही सभी प्रमुख नीति पर अंतिम निर्णय ले चुके है।