इंडोनेशिया ने चार महीने बाद जब्त ईरानी टैंकर को छोड़ा, इस वजह से लिया था अपने कब्जे में

ईरान का कहना है कि इंडोनेशिया ने उसके तेल टैंकर को छोड़ दिया है जिसे उसने जनवरी के अंत में अदालती कार्यवाही समाप्त होने के बाद जब्त कर लिया था। नेशनल ईरानी टैंकर कंपनी ने एक बयान में कहा कि वरिष्ठ ईरानी अधिकारियों और देश के विदेश मंत्रालय के प्रयासों से एमटी हॉर्स और उसके चालक दल को 125 दिनों के बाद शुक्रवार को रि’हा कर दिया गया।

ईरानी कंपनी ने कहा, “कई कठिनाइयों से गुजरने और परिवार से दूर होने के बावजूद, एमटी हॉर्स के पेशेवर और प्रतिबद्ध कर्मियों ने राष्ट्रीय हितों की रक्षा और तेल और उसके डेरिवेटिव के निर्यात के प्रवाह को बनाए रखने के लिए दृढ़ता से काम किया।”

पोत ने अब इस क्षेत्र में अपने मिशन को फिर से शुरू कर दिया है और इसे पूरा करने के बाद ईरानी जलक्षेत्र में वापस आ जाएगा। इंडोनेशिया ने कहा कि उसके तट रक्षक ने उसके पानी में तेल के संदिग्ध अवै’ध हस्तांतरण को लेकर, पनामा-ध्वजांकित एमटी फ्रेया के अलावा, ईरानी ध्वज वाले जहाज को जब्त किया था।

उस समय ईरान के विदेश मंत्रालय ने जब्ती को लेकर कहा था कि यह एक “तकनीकी समस्या” थी और शिपिंग में ऐसी घटनाएं असामान्य नहीं हैं। विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने अप्रैल में इंडोनेशिया की यात्रा की और राष्ट्रपति जोको विडोडो सहित वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की।

लेकिन बैठक के बाद, उन्होंने और विदेश मंत्रालय ने पोत का कोई उल्लेख नहीं किया, उन्होंने कहा कि उन्होंने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने और ईरान पर एकतरफा संयुक्त राज्य प्रति’बंधों का विरोध करने की बात की।