इंडोनेशिया हज के लिए अपने नागरिकों को नहीं भेजेगा सऊदी अरब, ये है बड़ी वजह

को’रोना महामारी के बीच, इंडोनेशिया ने इस साल हज के लिए अपने नागरिकों को नहीं भेजने का फैसला किया है। इस फैसले के पीछे इंडोनेशिया को अभी तक सऊदी अरब सरकार से निमंत्रण नहीं मिलना है। बता दें कि इंडोनेशिया विश्व की सबसे अधिक आबादी वाला देश है।

हज इस्लाम में एक पवित्र धार्मिक यात्रा है। साथ ही यह मुसलमानों के लिए एक अनिवार्य धार्मिक कर्तव्य भी है। जिसे सभी सक्षम मुसलमानों द्वारा जीवन में कम से कम एक बार किया जाना चाहिए आवश्यक हैं।

इंडोनेशिया के धार्मिक मामलों के मंत्री याकूत चोलिल कुमास ने कहा कि निरंतर कोरो’नावायरस महामारी के बीच हाजियों के स्वास्थ्य और सुरक्षा पर विचार करने के बाद यह कदम उठाया गया। उन्होने कहा, हम अभी भी एक महामारी में हैं और हाजियों की सुरक्षा के लिए, सरकार ने फैसला किया है कि इस साल हम इंडोनेशियाई नागरिकों को नहीं भेजेंगे।”

मंत्री ने कहा कि देश को अभी तक 2021 हज यात्रा के लिए सऊदी सरकार से निमंत्रण नहीं मिला है। उन्होंने कहा, “केवल इंडोनेशिया ही नहीं, बल्कि सभी देश। इसलिए, अब तक किसी भी देश को कोटा नहीं मिला है, क्योंकि समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर नहीं किया गया है।”

कौमास ने कहा कि संसद के साथ गहन अध्ययन और चर्चा के बाद निर्णय लिया गया। यह दूसरी बार है जब इंडोनेशिया ने हज यात्रियों का प्रस्थान रद्द किया है। पिछले साल, सऊदी अरब ने महामारी के कारण अंतरराष्ट्रीय आज़मीन पर रोक लगा दी थी।