यूएई में समुद्र में डूबी भारतीय महिला, बेटी को बचाया गया

यूएई के उम्म अल क्वैन में समुद्र तट पर डूबने से एक 32 वर्षीय भारतीय महिला की मौ’त हो गई, जबकि उसकी चार साल की बेटी को बचा लिया गया। दोनों को शुक्रवार सुबह नेशनल एम्बुलेंस द्वारा उम्म अल क्वैन अस्पताल ले जाया गया।

उम्म अल क्वैन में पुलि’स केंद्र विभाग के निदेशक ब्रिगेडि’यर खलीफा सलेम अल शम्सी ने कहा कि पु’लिस ऑपरेशन रूम को शुक्रवार सुबह 9 बजे एक भारतीय महिला और उसकी बेटी के बारे में फोन आया था, जो समुद्र तट पर डूब गई थी। राष्ट्रीय एम्बुलेंस चालक दल और पुलि’स कर्मियों को तुरंत घटनास्थल पर भेजा गया।

ब्रिगे’डियर अल शम्सी ने कहा कि भारतीय परिवार जिसमें 49 साल का एक पिता, 32 साल की एक मां, एक बेटा और चार साल की एक लड़की शामिल है, जो अजमान से शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे अल बैत मेटवाहिद समुद्र तट पर आया था। वे सुबह नौ बजे तक समुद्र तट पर बैठे रहे। पिता और पुत्र पहले समुद्र में गए, उसके बाद बेटी और फिर माँ। जब वे समुद्र में थे, तब महिला और उसकी बेटी डूब गए।

पिता ने उन्हें बचाने की कोशिश की, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सके। फिर वह पानी से बाहर आ गए और समुद्र तट पर जाने वाले अन्य लोगों से मदद मांगी, जो तुरंत मदद के लिए दौड़े। उन्होंने मां-बेटी को पानी से बाहर निकाला। दोनों की हालत नाजुक बनी हुई थी। बाद में बच्ची की हालत स्थिर होने पर मां की मौ’त हो गई।

ब्रिगेडि’यर जनरल सलेम अल शम्सी ने जनता से अपील की कि तैरते समय सावधानी बरतें और अस्थिर या खराब मौसम की स्थिति में या उच्च ज्वार के दौरान समुद्र में प्रवेश न करें। उन्होंने लोगों से समुद्र में तैरते समय सुरक्षा किट पहनने और हमेशा उच्च जल धाराओं वाले स्थानों से दूर रहने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि माता-पिता को अपने बच्चों पर ध्यान देना चाहिए और उन्हें किसी भी समय लावारिस नहीं छोड़ना चाहिए।