सऊदी अरब से 11 साल बाद वतन लौटा भारतीय प्रवासी, खुशी से झूम उठे परिवार वाले

0
355

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा के नगरोटा बगवां की पंचायत रौंखर निवासी विजय कुमार साढ़े 11 वर्ष बाद सऊदी अरब से घर वापस लौटा। जिससे परिजनों और गांव वालों में खुशी का माहौल है। विजय कुमार को लेने के लिए उसका भाई अजय कुमार दिल्ली एयरपोर्ट गया था।

विजय कुमार ने बताया कि वह वर्ष 2011 में 3 वर्ष के वीजा पर सऊदी अरब स्थित ओटीसी कम्पनी में बतौर हाईड्रोलिक लोडर ऑप्रेटर गया था। 2013 में जब वह ड्यूटी पर था तो बिना कैबिन लोडर के पीछे बैठा उसका हेल्पर बांगलादेशी नागरिक अचानक नीचे गिर कर मर गया, जिसका उसे पता भी नहीं चला। उसके उपरांत सऊदी अदालत में केस चला और उसमें बरी भी हो गया, लेकिन 3 वर्ष उपरांत उसके घर वापस आने का समय हुआ तो कंपनी ने साजिश के तहत उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया और उस केस को रीओपन करवा दिया।

विज्ञापन

कम्पनी ने 3 साल उपरांत उसका कॉन्ट्रैक्ट भी रिन्यू नहीं किया तथा उससे आधी सैलरी पर काम करवाते रहे। वह बड़ी मुश्किल से अपना गुजारा कर पता था और अदालत व एंबेसी के चक्कर काटते-काटते परेशान हो गया। विजय ने बताया कि अंत में अदालत ने उसे 1.50 लाख सऊदी रियाल का जुर्माना अदा करने को कहा जोकि भारतीय करंसी के मुताबिक 31 लाख रुपए बनते हैं।

बड़ी मुश्किल से 15 लाख रुपए देकर छुटकारा हुआ। विजय कुमार ने समाजसेवी संस्था नगरोटा हेल्पिंग हैंड व हिमाचल के लोगों का दिल से आभार जताया, जिनके सहयोग उसकी घर वापसी हो पाई है। विजय ने बताया कि सऊदी अदालत में 31 लाख की पेनल्टी डाल दी थी, लेकिन एक भारतीय की मदद से 15 लाख पर सेटलमेंट हुई और पैसे जमा करवाने के बाद घर वापसी सम्भव हो पाई है। इसमें नगरोटा हेल्पिंग हैंड के संयोजक प्रवेश शर्मा की भूमिका अहम रही, जिनके द्वारा हिमाचल के लोगों के सहयोग से मुझे 8 लाख रुपए प्राप्त हुए तथा बाकी मैंने अपनी तरफ से दिए। विजय ने नगरोटा बगवां के एनआरआई लोकेश वालिया जोकि दोहा कतर में रहते हैं, उनका भी आभार जताया। विजय मे कहा कि अब वो अपने देश मे ही मेहनत करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here