हरम में इमाम ए काबा पर ह’मला करने वाले सऊदी ने खुद के ‘महदी’ होने का दावा किया

0
427

रियाद: मक्का क्षेत्र की पु’लिस ने एक व्यक्ति को गिर’फ्तार किया है, उस पर आरोप है कि उसने जुम्मे की नमाज के दौरान खुतबा देते समय इमाम ए काबा के मिंबर पर चढ़ने की कोशिश की। दरअसल वह इमाम ए काबा की और लाठी लेकर दौड़ा था। लेकिन वह कुछ कर पाता कि उसे पकड़ लिया गया।

घटना की जांच कर रही पु’लिस ने बाद में खुलासा किया कि ह’मलावर ने खुद के “महदी (मसीहा) होने का दावा किया। सुरक्षा अधिकारी मोहम्मद अल-ज़हरानी ने उस व्यक्ति को रोका और इमाम के पास जाने से पहले उसे जमीन पर पटक दिया।

विज्ञापन

अन्य अधिकारियों की मदद से उसे मस्जिद से बाहर निकाला गया। अल-ज़हरानी को “हीरो” के रूप में सम्मानित किया गया है और सोशल मीडिया पर उनके प्रयासों के लिए सउदी लोगों द्वारा धन्यवाद दिया गया है। बता दें कि ग्रैंड मस्जिद के इमामों में से एक, शेख बंदर बलीला ने शुक्रवार को खुतबा दिया था।

मक्का पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि हिरा’सत में रखे जाने से पहले अल-जहरानी की कार्रवाई के बाद सु’रक्षा अधिकारियों ने उसे पकड़ लिया। नाटक के खुलासे के बावजूद शेख बलीला ने अपना खुतबा जारी रखा।

समाचार पत्र अल-वतन के अनुसार, पु’लिस द्वारा प्रारंभिक जांच से पता चला है कि अप’राधी 40 वर्षीय सऊदी नागरिक था। पूरे इतिहास में, कई लोगों ने “इस्लाम के मुक्तिदाता” होने का दावा किया है।

सबसे हाई-प्रोफाइल घटना 1979 में हुई, जब जुहैमन अल-ओतैबी और उनके बहनोई मोहम्मद अल-काहतानी, जिन्होंने महदी होने का दावा किया, ने ग्रैंड मस्जिद में सैकड़ों जायरीन को बंध’क बना लिया, जिससे एक सप्ताह तक घे’राबंदी की गई।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here