अमेरिका पर भड़के फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रॉन – यूरोपीय सहयोगियों की जासू’सी नहीं है स्वीकार्य

अमेरिका और फ्रांस के रिश्तों में दरार आ चुकी है और ये दरार वक्त के साथ तेजी से बढ़ती ही जा रही है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन अमेरिका की नीतियों की खुलकर आलोचना कर रहे है। हाल ही में उन्होने अमेरिका को यूरोपीय देशों में जा’सूसी कराने को लेकर फटकार लगाई है।

मैक्रॉन ने सोमवार को कहा कि वायरटैपिंग सहयोगियों को उन रिपोर्टों के बाद स्वीकार्य नहीं था कि यू.एस. राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NSA) ने यूरोपीय सहयोगियों की जा’सूसी की थी। मैक्रों ने कहा कि जो हुआ उस पर फ्रांस और जर्मनी पूरी तरह स्पष्टता चाहते हैं।

मैक्रोन ने जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के साथ एक आभासी फ्रेंको-जर्मन बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “यह सहयोगियों के बीच स्वीकार्य नहीं है।”

डेनिश ब्रॉडकास्टर डीआर ने कहा कि डेनमार्क की रक्षा खु’फिया सेवा, जिसे डेनमार्क में इसके संक्षिप्त नाम से जाना जाता है, ने 2014 में एक आंतरिक जांच की थी कि क्या यूएस एनएसए ने डेनमार्क और पड़ोसी देशों के खिलाफ जासूसी करने के लिए डेन के साथ सहयोग का इस्तेमाल किया था।

जांच ने निष्कर्ष निकाला कि एनएसए ने जर्मनी, फ्रांस, स्वीडन और नॉर्वे में राजनीतिक नेताओं और अधिकारियों पर नजर रखी थी। DR के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका और डेनमार्क के बीच कथित सेट-अप का कोडनेम ऑपरेशन डनहैमर था।