मुस्लिम मुल्कों में गहरा रहा जल संकट, अब मिस्र ने भी कहा – पानी की किल्लत से जूझ रहे

मिस्र के पूर्व सिंचाई मंत्री मोहम्मद नस्र आलम ने घोषणा की है कि मिस्र वर्तमान में पानी की गंभीर कमी से जूझ रहा है। इससे पहले ईरान, इराक सहित कई देश ऐसी चिंता जता चुके है।

आलम ने कहा कि मिस्र के किसानों को उनकी फसलों के लिए आवश्यक पानी की मात्रा पाने से संबंधित समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने बताया कि मिस्र की सिंचाई के पानी की वार्षिक आवश्यकता लगभग 105 बिलियन वर्ग मीटर है, यह देखते हुए कि इस पानी की एक बड़ी मात्रा रीसाइक्लिंग सीवेज के माध्यम से प्राप्त की जाती है।

पूर्व मंत्री ने यह भी संकेत दिया कि इथियोपियाई बांध में बड़ी संख्या में तकनीकी दोष हैं, और काहिरा ने 2010 में बांध बनाने की इथियोपियाई योजनाओं को पूरी तरह से खारिज कर दिया।

इस बीच, अल अरबिया समाचार वेबसाइट ने बताया, मिस्र के वर्तमान सिंचाई मंत्री मोहम्मद अब्देल-अती ने कहा कि इथियोपियाई बांध के कारण पानी की कमी के कारण 200,000 मिस्र के परिवारों को आय के अपने स्रोत खो देंगे।

बता दें कि ईरान में पानी को लेकर सड़कों पर लोग उतरे हुए है। वहीं इराक भी पानी न मिलने पर ईरान को जिम्मेदार बता चुका है।