No menu items!
27.1 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021

एर्दोआन बोले – UN का हो फिर से पुनर्गठन, 1.5 अरब मुसलमानों का प्रतिनिधित्व करने में रहा विफल

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोआन ने मंगलवार को कहा कि हम समस्या पैदा करने वाली समझ के अंत में आ गए हैं कि पश्चिम श्रेष्ठ है। अब हर कोई इसे मानता और मानता है। खुद पश्चिम भी इस बात को मानने लगा है। सदियों से चला आ रहा पश्चिम का आधिपत्य अब समाप्त हो गया है। एक नई अंतरराष्ट्रीय प्रणाली उभर रही है।”

उन्होने कहा, “दुनिया संकट के दौर से गुजर रही है, और महामारी ने इस संकट को गहरा कर दिया है।” उन्होंने कहा, वैश्विक समुदाय को परेशान करने वाली परेशानियां तब तक और गहरी होंगी जब तक कि उन्हें तुरंत हल नहीं किया जाता है, अन्यथा कोई मौजूदा तंत्र कार्य करने में सक्षम नहीं होगा।

यह तर्क देते हुए कि वैश्विक शासन तंत्र अब संचालित नहीं हो पा रहा है और शासन की समस्या बाद में सामने आई है, तुर्की नेता ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के पास भी इस समस्या का अपना हिस्सा है। उन्होंने कहा, “तुर्की के रूप में, हमें इस गहरे वैश्विक संकट का जवाब देना होगा जिससे हम गुजर रहे हैं। एक देश के रूप में, हम पिछले 20 वर्षों से मानवता की आवाज और विवेक रहे हैं।” हमने सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मौन बहुमत की आवाज बुलंद की है।

राष्ट्रपति ने इस बात पर ध्यान दिया कि तुर्की ने हमेशा धर्म, भाषा या नस्ल की परवाह किए बिना दुनिया भर के सभी अन्यायों के लिए मानवीय रुख अपनाया, चाहे वह सीरियाई शरणार्थियों के बारे में हो, म्यांमार में लोगों के उत्पी’ड़न, फिलिस्तीनी मुसलमानों की पीड़ा, विकास के बारे में हो। साथ ही अफ्रीका में विकास के साथ-साथ न्यूजीलैंड के आव्रजन विरोधी, इस्लामोफो’बिया और पश्चिम में बढ़ता उ’ग्रवाद हो।

एर्दोआन ने कहा कि वह वर्तमान स्थिति को निर्धारित करने और समाधान की पेशकश करने के प्रयास में उन मुद्दों को एक साथ लाना चाहते हैं जो उन्होंने एक किताब में जोर से बोले थे। उन्होंने कहा, “हम सुधार की पहल करके संयुक्त राष्ट्र के पुनर्गठन का प्रस्ताव करते हैं। … इस प्रस्ताव के साथ, हम कहते हैं कि दुनिया निष्पक्ष हो सकती है। हम चाहते हैं कि दुनिया की वास्तविक समस्याओं पर चर्चा हो।”

उन्होने कहा, “यूएनएससी दुनिया भर में लगभग 1.5 अरब मुसलमानों का प्रतिनिधित्व करने में विफल रहता है। हमें प्रतिनिधित्व और वैधता संकट को हल करना होगा और संयुक्त राष्ट्र को एक अधिक पारदर्शी संगठन बनाना होगा जो अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने अपने कार्यों के लिए जवाबदेह हो।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,986FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts