No menu items!
28.1 C
New Delhi
Thursday, August 5, 2021

सल्तनत ए उस्मानिया पर बिडेन की बिगड़े बोल, अर्दोआन ने भी दिखा दिया आईना

Must read

- Advertisement -

तुर्की के राष्ट्रपति ने सोमवार को 1915 की घटनाओं पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के बयान को “निराधार” करार देते हुए कहा कि यह “तथ्यों के विपरीत है।”

राजधानी अंकारा में तीन घंटे की कैबिनेट बैठक के बाद एक समाचार सम्मेलन को संबोधित करते हुए, रेसेप तैयप एर्दोआन ने कहा: “अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने एक बयान दिया है जो निराधार, अन्यायपूर्ण है और इससे अधिक एक शताब्दी पहले द’र्दनाक घटनाओं के बारे में तथ्यों के विपरीत है।”

बाइडेन की टिप्पणी पर एर्दोआन ने एक बार फिर कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति की टिप्पणी “कोई ऐतिहासिक और कानूनी आधार नहीं है।”  उन्होने कहा, “तुर्की के रूप में, हम मानते हैं कि इतिहास के कष्टों का सामना करना अमानवीय है।” एर्दोआन ने यह याद दिलाते हुए कहा कि तुर्की एकमात्र राष्ट्र और राज्य है जो बगावत के बिना है और इसके इतिहास के बारे में स्पष्ट और संतुष्ट विवेक है।

राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि अमेरिका और यूरोप “सार्वजनिक रूप से सामने भी नहीं आ पाएंगे” यदि वे इतिहास की घटनाओं पर “प्रतिस्पर्धा” करते है। उन्होने कहा, “यदि आप इसे नरसं*हार कहते हैं, तो आपको दर्पण में देखना चाहिए और खुद का मूल्यांकन करना चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा: “ऐतिहासिक घटनाओं की जांच करना और सच्चाई को उजागर करना विशेषज्ञों और इतिहासकारों को छोड़ देना चाहिए, न कि राजनेताओं को।” अर्मेनियाई दावों से जुड़े प्रस्तावित संयुक्त इतिहास आयोग पर, एर्दोआन ने कहा कि तुर्की को अपने प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया प्राप्त करना बाकी है।

उन्होंने कहा, “हमने अपने अभिलेखागार में प्रवेश के लिए आयोग के शोधकर्ताओं को आश्वासन दिया है, लेकिन अन्य दलों ने जवाब नहीं दिया है।” एर्दोआन ने इस बात को रेखांकित किया कि “अर्मेनियाई आरोपों के बारे में कोई ठोस सबूत नहीं है और न ही कोई अंतरराष्ट्रीय अदालत का फैसला।”  उन्होंने कहा, “अब भी हमारे अभिलेखागार में 1 मिलियन से अधिक दस्तावेज हैं। दस्तावेजों की जांच करें।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article