Home अन्तर्राष्ट्रीय क्या आप जानते हैं की खाना-ए-काबा की चाबियाँ किस परिवार के पास...

क्या आप जानते हैं की खाना-ए-काबा की चाबियाँ किस परिवार के पास रहती हैं? देखें विडियो

378
SHARE
सौजन्य से -अल अरेबिया
सऊदी अरब में मुस्लिमों के सबसे पवित्र स्‍थान मक्‍का में काबा को खुदा का घर कहा जाता है. काबा को सिर्फ उसी परिवार की इजाजत से खोला जाता है जिसके पास इसकी चाभी रहती है.

इस परिवार को हुआ काबा की चाबियाँ प्राप्त करने का सौभाग्य 

16 से अधिक शताब्दियों तक, दुनिया में इस्लाम की शुरुआत से पहले, क्यूसाई बिन किलाब बिन मुराह के पोते ने काबा की देखभाल करने में विशेष भूमिका निभाई थी. बिन मुर्रा परिवार की श्रेणियों में से अल- शैबा जनजाति थी जिसे मक्का की विजय के वर्ष में पैगंबर मोहम्मद द्वारा पवित्र स्थल की चाबियाँ दी गई थीं.

इस घर की चाभी रखना हमेशा से अरब जगत में गौरव का कारण रहा है. काबे की चाभी, मक्का के “बनी शैबा” नामक खान्दान के हवाले की गयी है और यह खानदान 1400 वर्षों से काबे की चाभी अपने पास रखता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बनी शैबा आज काबा की चाबियाँ अपने पास रखते हैं. वे काबा के ‘सूदना’ के प्रभारी हैं जिसका अर्थ है कि इसे खोलने और बंद करने, इसे साफ करने और धोने, और इसकी किस्वा या क्लैडिंग की देखभाल करने सहित सभी जिम्मेदारी.”

जमजम और गुलाब के पानी का उपयोग 

काबा को अंदर से इस्लामी कैलेंडर में शाबान के पहले और मोहराम के 15 वें वर्ष में दो बार धोया जाता है. धुंध प्रक्रिया से पहले अल-हरम अल-मक्की की पवित्र स्थल में फ़ज्र प्रार्थनाएं की जाती हैं, जहां केवल ज़मज़म और गुलाब के पानी का उपयोग किया जाता है.

पवित्र काबे की चाभी 

शूर काउंसिल के इतिहासकार और सदस्य डॉ मोहम्मद अल-जुल्फा ने कहा कि “काबा के दरवाजे की कुंजी ऐतिहासिक और धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण है.  “इसका अपना पाउच है जिसमें हरी कढ़ाई है.”

सौजन्य से -अल अरेबिया

उन्होंने कहा कि कुंजी धातु से बनी है और बना है और 35 सेंटीमीटर लंबी है. यह सदियों से कई बार बदल दी गयी है और इसे विकसित किया गया . आज, काबा की कुंजी और ताला निकल से बने 18-कैरेट सोने से बनती है जबकि किसवा हरे रंग का होता है जो की पहले लाल रंग का होता था.

अल-जुल्फह ने कहा कि कुंजी का आकार अब बदलता रहता है. तुर्की में एक संग्रहालय है जिसमें ओटामन युग के बाद काबा के लिए 48 चाबियाँ हैं, जबकि सऊदी अरब में शुद्ध सोने से बनी कुंजी की दो प्रतिकृतियां हैं.

सौजन्य से -अल अरेबिया

अल-जुल्फह ने कहा कि यह सबसे पुराना जनजाति सदस्य होने की कुंजी के लिए कस्टम है.

काबे की अब तक 58 चाभियां बन चुकी हैं और कई पुरानी चाभियां, जो ताले बदलने की वजह से बेकार हो चुकी थीं,  विश्व के विभिन्न  संग्रहालयों में मौजूद हैं. रोचक बात यह है कि जब हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलामने काबा बनाया था तो उसमें कोई भी दरवाज़ा नहीं था और कुछ इतिहासकारों के अनुसार 606 वर्ष ईसापूर्व इसमें पहला दरवाज़ा लगाया गया। यह गौरव भी कुरैश के कबीले को प्राप्त हुआ.

सौजन्य से -अल अरेबिया
Loading...