ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट ने दिये ASI को जांच के आदेश, अयोध्या की तरह होगी खुदाई

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामला अयोध्या मामले की राह पकड़ता हुआ दिखाई दे रहा है। दरअसल, गुरुवार को वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक की कोर्ट ने इस मामले में ज्ञानवापी परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण कराने के आदेश जारी कर दिये। सर्वेक्षण का सारा खर्चा सरकार को वहन करना होगा।

जानकारी के अनुसार,  वाराणसी फार्स्ट ट्रैक कोर्ट के जज आशुतोष तिवारी ने य अहम फैसला सुनाया है। जिसमे उन्होने पुरातत्व विभाग को पांच सदस्यीय टीम बनाकर पूरे परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण करने का आदेश दिया है। कमेटी में 2 अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को भी रखने के आदेश दिये गए है।

उल्लेखनीय है कि अधिवक्ता विजय शंकर रस्तोगी ने दिसंबर 2019 में सिविल जज की अदालत में स्वयंभु ज्योतिर्लिंग भगवान विश्वेश्वर की ओर से एक याचिका दायर कर संपूर्ण ज्ञानवापी परिसर का पुरातात्विक सर्वेक्षण कराने की मांग की थी। जिस पर जज आशुतोष तिवारी की कोर्ट ने ये फैसला सुनाया है।

इस याचिका के विरोध में जनवरी 2020 में अंजुमन इंतजामिया मस्जिद समिति ने भी ज्ञानवापी मस्जिद और परिसर का एएसआई द्वारा सर्वेक्षण कराए जाने की मांग पर प्रतिवाद दाखिल किया था। याचिकाकर्ता ने मंदिर की जमीन से मस्जिद को हटाने का निर्देश जारी करने की भी मांग की है।