तब्लीग़ी जमात से 80 देशों में फैला कोरोना, पाकिस्तान में हो रहा जमकर विरोध

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के जरिए घर-घर में कोरोना फैलने का खतरा पैदा हो गया है। दरअसल, रायविंड के तबलीग़ी मरकज़ में 35 लोगों का जब कोरोना टेस्ट कराया गया तो उनमें से 27 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। इसके बाद ही स्थानीय प्रशासन ने तबलीगी के कई प्रचारकों को हिरासत में लेकर क्वारंटीन शुरू कर दिया।

‘द डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, जब क्वारंटीन सेंटर में सबका टेस्ट किया जा रहा था तो उनमें से एक प्रचारक ने पुलिस पर चा’कू से हमला कर दिया और भागने की कोशिश की। करीब 1200 तबलीगी जमात के प्रचारक 5 दिन के सम्मेलन में हिस्सा ले रहे थे जिनमें 500 विदेशी भी शामिल थे।

ये सभी लोग मरकज़ के खुले मैदान में बने कैंप में रह रहे थे। इससे पहले पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने वायरस के संक्रमण के मद्देनज़र इस जलसे को रद्द करने की मांग की थी, लेकिन आयोजकों ने इसे रद्द करना जरूरी नहीं समझा।इसमे बड़ी तादाद में विदेशी नागरिक भी शरीक हुए।  यंग डॉक्टर्स असोसिएशन के स्थानीय प्रेजिडेंट डॉ.ताहिर शाहीन का कहना है कि प्रचारकों की क्वारंटीन सेंटर में निगरानी की जा रही है।

जमात में थाइलैंड और नाइजीरिया के लोग भी शामिल

रविवार को रॉयल थाई दूतावास ने विदेश मंत्रालय से संपर्क कर अपने 50 नागरिकों को तबलीग़ी मरकज़ से बाहर निकालने की इजाज़त मांगी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने थाइलैंड के सभी नागरिकों की जांच की। जांच में सबकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। इन सबको इस्लामाबाद शिफ़्ट कर दिया गया है जहां से निजी विमान में इन्हें स्वदेश भेजा जाएगा। इसके अलावा 47 उलेमाओं को कसूर के क्वारंटाइन केंद्र में रखा गया है, इनमें 5 महिलाएं भी शामिल हैं। ये सभी महिलाएं नाइजीरियन हैं।

लाहौर के डिप्टी कमिश्नर दानिश अफ़ज़ल ने द डॉन से कहा कि मरकज़ को तीन दिन पहले ही पूरी तरह सील कर दिया गया है और वहां के सभी लोगों की जांच कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों ने मरकज़ में रह रहे 35 लोगों की अब तक जांच की है, जिनमें से 27 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने कहा, “हम मरकज़ में भी क्वारंटाइन सेंटर बना रहे हैं ताकि मरीज़ों की संख्या बढ़ने पर हम उन्हें वहां रख सके। उन्हें काला शाह काकू केंद्र में रखा जाएगा।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE