फ़िलिस्तीन और मस्जिदुल अक़सा के मुद्दे पर सम्मेलन, महात्मा गांधी और नेल्सन मंडेला के पोते भी हुए शरीक

0
180

कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के रौज़े के एडमिनिस्ट्रेशन के प्रमुख हसन रशीर अलअबायजी ने कर्बला में जारी अलअक़सा की फ़रियाद नामक कान्फ़्रेन्स में कहा कि हालिया हफ़्तों में वेस्ट बैंक के इलाक़े में फ़िलिस्तीनियों ने इ’स्राई’ली सैनिकों के ख़ि’लाफ़ अपना प्रतिरोध बहुत तेज़ कर दिया है जिसके नतीजे में ज़ायोनी अधिकारी बौखला गए हैं।

मंगलवार को ज़ायोनी सैनिकों ने वेस्ट बैंक पर ह’मला किया जिसमें एक फ़िलिस्तीनी शही’द और 11 घाय’ल हो गए।

विज्ञापन

हसन रशीद अलअबायजी ने कहा कि इस्लमी जगत को दावत दी जाती है कि मस्जिदुल अक़सा की मदद के लिए आगे आए। उन्होंने कहा कि हम फ़िलिस्तीनियों के प्रतिरोध का समर्थन करते हैं।

पवित्र नगर कर्बला में इस समय इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के चेहलुम का कार्यक्रम जारी है और सारी दुनिया से श्रद्धालु कर्बला पहुंच रहे हैं जबकि साथ ही अलअक़सा की फ़रियाद के नाम से एक सम्मेलन का आयोजन किया गया है। सम्मेलन में क़ुद्स की आज़ादी और फ़िलिस्तीनी जनता के इंक़ेबला में हुसैनी आंदोलन की भूमिका का जायज़ा लिया जा रहा है।

सम्मेलन में इस का भी जायज़ा लिया जा रहा है कि इस्राईल से रिश्ते बहाल करने की अरब सरकारों की कोशिशों पर अंकुश लगाने का क्या तरीक़ा हो सकता है। सम्मेलन में दुनिया के 60 देशों की 250 इल्मी हस्तियां शामिल हैं। महात्मा गांधी और नेल्सन मंडेला के पोते भी इस सम्मेलन में शरीक हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here