अमेरिका ने रोकी थी डबल्यूएचओ की फंडिंग, अब चीन देगा 30 मिलियन डॉलर की मदद

बीजिंग: चीन ने गुरुवार को घोषणा की कि वह कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में मदद करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन को एक और 30 मिलियन डॉलर का दान करेगा, बता दें कुछ दिनों पहले वाशिंगटन ने कहा कि यह धनराशि को फ्रीज कर देगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वेंग शुआंग ने कहा, “चीन ने डब्लूएचओ को 20 मिलियन डॉलर के पिछले दान के अलावा, कोविद -19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई का समर्थन करने और विकासशील देशों की स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने के लिए एक और 30 मिलियन डॉलर नकद दान करने का फैसला किया है।”

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र एजेंसी में चीन का योगदान “डब्ल्यूएचओ के लिए चीनी सरकार और लोगों के समर्थन और विश्वास को दर्शाता है”। WHO का सबसे बड़ा योगदानकर्ता, US ने, WHO पर पिछले सप्ताह “कुप्रबंधन” करने का आरोप लगाया।

पिछले हफ्ते फंडिंग फ्रीज की घोषणा करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ पर आरोप लगाया कि वह फैलने से पहले चीन में सीओवीआईडी ​​-19 के प्रकोप की गंभीरता को कवर कर सकता था। ट्रम्प ने कहा कि अमेरिकी करदाताओं ने $ 400 मिलियन से $ 500 मिलियन प्रति वर्ष WHO को प्रदान किए, जबकि “इसके विपरीत, चीन लगभग 40 मिलियन डॉलर प्रति वर्ष और इससे भी कम योगदान देता है”।

ट्रम्प ने यह भी दावा किया कि प्रकोप “बहुत कम मौत” के साथ सम्‍मिलित हो सकता है, हालांकि डब्‍ल्‍यूएचओ ने कहा कि उसने चीन की स्थिति का सही आकलन किया था।  बीजिंग ने अमेरिका से आग्रह किया है कि वह फंडिंग रोकने के बजाय महामारी के खिलाफ डब्ल्यूएचओ की अगुवाई वाली अंतरराष्ट्रीय कार्रवाई का समर्थन करे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE