No menu items!
29.1 C
New Delhi
Saturday, October 23, 2021

देश में सत्ता परिवर्तन लेकिन अफगानिस्तान में अभी भी जमा हुआ है चीन

Voice Hindi News – रविवार 15 अगस्त का दिन जहाँ भारत के लिए ऐतिहासिक महत्व रखता है वहीँ अफगानिस्तान में कुछ ऐसा हुआ की वहां भी 15 अगस्त को याद रखा जायेगा, रविवार की रात्री में राष्ट्रपति में तालिबान के घुसने के बाद अब मामला पूरी तरह साफ़ हो चूका है. अभी तक अटकलें लगायी जा रही थी की अफगानी सेना की तरफ से विरोध होगा लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. अब यह साफ़ हो चूका है की समूचे अफगानिस्तान पर तालिबान का राज स्थापित हो चूका है.

बन्दूक की नोक से निकली इस सत्ता के लिए अगली कड़ी यह होगी की दुनियाभर के कौन कौन से देश उसे मान्यता देते है अथवा नही, लेकिन इन सबके बीच एक अहम् खबर यह आ रही है की, जब अधिकतर देशों के नागरिक तथा राजदूत अफगानिस्तान से निकलने की जुगत में हैं वहीँ अभी तक चीन ने अफगानिस्तान नही छोड़ा है.

चीन में पिछले महीने सरकारी मीडिया ने कुछ तस्वीरें जारी की थीं जिसमें विदेश मंत्री वांग यी को तालिबान के अधिकारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े देखा जा सकता था। चीन और रूस ने कहा है कि उसकी काबुल में रूसी दूतावास को खाली करने की कोई योजना नहीं है। रूसी सरकारी मीडिया ने बताया कि तालिबान ने राजनयिक कर्मचारियों की सुरक्षा की गारंटी देने का वादा किया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि रूस के साथ संगठन के ‘अच्छे’ संबंध हैं। वहीं जुलाई में वार्ता के दौरान संकट को समाप्त करने में मदद की पेशकश के बाद ईरान भी अपने राजनयिकों और कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आगे कदम बढ़ा रहा है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,988FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts