न्याय: मुस्लिम महिला की जमीन पर बने चर्च को बोस्नियाई सरकार ने हटाया

बोस्निया और हर्जेगोविना ने शनिवार को एक मुस्लिम बोस्नियाई महिला के बगीचे में सर्ब द्वारा बनाए गए चर्च को गिराना शुरू कर दिया। 79 वर्षीय बोस्नियाई महिला, फाटा ओरलोविक, 1992 और 1995 के बीच बोस्नियाई यु’द्ध के दौरान सर्बों द्वारा अपने बगीचे में अवैध रूप से निर्मित रूढ़िवादी चर्च को हटाने के लिए वर्षों से संघ’र्ष कर रही थी।

ओरलोविक के वकील रुस्मिर कार्किन ने सोशल मीडिया पर घोषणा की कि निर्माण उपकरण साइट पर हैं और चर्च को हटाने का काम आज सुबह शुरू हुआ। 2019 में यूरोपियन कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स (ECHR) ने अनधिकृत चर्च को ध्वस्त करने का फैसला सुनाया था।

ईसीएचआर ने कहा कि आदेश को तीन महीने के भीतर लागू करने के भी निर्देश दिया था। हालांकि, बोस्निया और हर्जेगोविना में अधिकारियों ने जून 2021 तक इंतजार किया।

यु’द्ध के दौरान अपने पति साकिर सहित 22 रिश्तेदारों को खोने से पहले ओर्लोविक अपने पति और सात बच्चों के साथ सेरेब्रेनिका के पास कोन्जेविक पोल्जे में रहती थी। वह देश के विभिन्न हिस्सों में एक शरणार्थी के रूप में रही। अमेरिका में रहने वाले अपने बच्चों के उनके साथ रहने पर जोर देने के बावजूद उन्होंने अपनी जन्मभूमि नहीं छोड़ी।

यु’द्ध के बाद, वह 1999 में अपने गांव लौटी और अपने बगीचे में बने एक चर्च को देखा। ओरलोविक ने तब चर्च को हटाने के लिए एक मुकदमा दायर किया और उसे वापस लेने के लिए पेश किए गए धन को अस्वीकार कर दिया। 2010 में, उन्होने 11 साल की कानूनी ल’ड़ाई जीती, लेकिन अदालत का फैसला कभी लागू नहीं हुआ।

बिजलजीना कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि चर्च को ध्वस्त कर दिया जाना चाहिए, लेकिन देश की दो संस्थाओं में से एक रिपब्लिका सर्पस्का के सुप्रीम कोर्ट ने फैसले को ही निलंबित कर दिया।