बिन सलमान ने सऊदी के पहले प्रधानमंत्री बनाये ही कर दिया बड़ा ऐलान, इन बदलावों के लिए हो जाये तैयार

0
376

सऊदी अरब के शक्तिशाली क्राउन प्रिंस देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे और मंगलवार की रात इस बाबत शाही आदेश जारी कर दिए गये हैं, जिसमें सरकारी फेरबदल की जानकारी दी गई है। पारंपरिक तौर पर सऊदी अरब में राजा का पद प्रधानमंत्री के पास रहता है, लेकिन अब क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे।

जिसके बाद अब सत्ता का कंट्रोल पूरी तरह से प्रिस सलमान के हाथों में होगा, लिहाजा माना जा रहा है, कि सऊदी अरब में आने वाले वक्त में कई क्रांतिकारी परिवर्तन हो सकते हैं, खासकर प्रिंस सलमान अपने मिशन-2030 को लेकर काफी तेजी से काम करना चाहते हैं, जिसके तहत वो देश की अर्थव्यवस्था को सिर्फ तेल तक ही केन्द्रित नहीं रखना चाहते हैं, बल्कि उनका मकसद सऊदी अरब को हर धर्म के लिए सहिष्णु बनाना भी है।

विज्ञापन

हालांकि, क्राउन प्रिंस पिछले कई सालों से अपनी पिता की खराब सेहत की वजह से देश के वास्तविक शासक रहे हैं, लेकिन अपने पिता सलमान के शासनकाल में वो देश के उप-प्रधानमंत्री और देश के रक्षामंत्री थे। लेकिन, उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद अब उनके छोटे भाई खालिद बिन सलमान देश के नये रक्षा मंत्री होंगे, जो अभी तक उप- रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी निभा रहे थे। आधिकारिक सऊदी प्रेस एजेंसी द्वारा प्रकाशित किंग सलमान के एक शाही फरमान के अनुसार, देश के बाकी मंत्रालयों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है गृह विभाग, विदेश विभाग और ऊर्जा विभाग के मंत्रियों में कोई तब्दिली नहीं की गई है।

प्रिंस मोहम्मद, जो पिछले महीने 37 साल के हो गए हैं, 2017 से अपने पिता के बाद राजा बनने की कतार में हैं। वह 2015 में रक्षा मंत्री बने थे और फिर सत्ता के हर प्रतिष्ठानों पर उनका वर्चस्व स्थापित हो गया। खासकर पिता सलमान के बीमार होने के बाद उन्होंने देश की सारी जिम्मेदारियां अपने हाथों में ले ली थी। पिछले महीने जब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सऊदी अरब का दौरा किया था, उस वक्त भी प्रिंस सलमान ने ही उनसे मुलाकात की थी।

सऊदी अरब क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने देश को मजहबी कट्टरता से निकालने के लिए एक तरह की मुहिम छेड़ रखी है और उन्होंने इसके लिए 2030 का टार्गेट तय किया है। वहीं, अब जब क्राउन प्रिंस देश के प्रधानमंत्री बनने वाले हैं, तो माना यही जा रहा है, कि धर्म सुधार आंदोलन को वो तेजी से आगे बढ़ाएंगे। सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का मानना है कि, सऊदी अरब की पहचान एक तेल संपन्न और कट्टर मुस्लिम देश के तौर पर ना हो, बल्कि एक उदार देश के तौर पर सऊदी अरब को पहचाना जाए, जहां हर धर्म और हर संप्रदाय को एक समान, एक नजर से देखा जाता है और किसी के ऊपर कोई धार्मिक पाबंदी ना हो।

लिहाजा क्राउन प्रिंस ने मजहबी कट्टरता के खिलाफ बेहद सख्त मुहिम चला रखी है, और उसी कदम के तहत पिछले साल दिसंबर महीने में क्राउन प्रिंस ने कट्टरवादी इस्लामिक संगठन तबलीगी जमात को प्रतिबंधित कर दिया था। इसके साथ ही सऊदी सरकार ने तबलीगी जमात को ‘आतंक का दरवाजा’ भी बताया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here