बिडेन का सऊदी दौरा, बिन सलमान का बयान और अब ईरान का पलटवार

0
162

इस समय दुनियाभर की नज़रों में सऊदी अरब छाया हुआ है, जहाँ पिछले दिनों सऊदी के क्राउन प्रिंस बिन सलमान ने मिस्त्र और तुर्की का दौरा किया. जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने तुरंत मिडिल ईस्ट देशों खासकर के सऊदी अरब के अपने दौरे का कार्यक्रम बनाया.

सऊदी दौरे पर पहुचें जो बिडेन ने कहा की अमेरिका की प्रतिबद्धता है की वो सऊदी को सुरक्षा प्रदान करता रहेगा, जिसके अगले ही दिन सऊदी के क्राउन प्रिंस ने ईरान को निशाने पर लेते हुए बयान जारी किया की ईरान को क्षेत्र के देशों के साथ सहयोग करना चाहिए तथा उसे(ईरान) को अन्य देशों के मामले में अपना हस्तक्षेप बंद कर देना चाहिए, मोहम्मद बिन सलमान ने यह बयान जेद्दाह में जीसीसी के सम्मलेन में दिया.

विज्ञापन

इसका पलटवार करते हुए ईरान ने कहा की अमेरिका को ‘ईरानोफोबिया’ से बाहर आ जाना चाहिए, ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नासिर कनानी ने कहा की यूनाइटेड स्टेट पहला ऐसा देश है जिसने पर’माणु ब’म का इस्तेमाल किया, दूसरों देशों के आंतरिक मामलों में लगातार दखल देता रहता है, हथि’यार बेचता है और सैन्यवाद फैलाता है. ईरानोफोबिया के नाम पर फिर से वही देश खाड़ी में अ-शान्ति फैलाना चाहता है.

आपको बताते चलें की पिछले कुछ महीनों से खाड़ी देशों में काफी हलचल दिखाई दे रही है, सऊदी क्राउन प्रिंस का तुर्की दौरा भी इसी नज़र से देखा जा रहा है, दोनों देशों के सम्बन्ध पत्रकार खशोगी की ह’त्या के बाद कटु हो गये थे.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने अपने अमेरिकी दौरे पर क्या कहा था?

अपने सऊदी दौरे पर पहुंचे जो बिडेन ने दोहराया था की सऊदी की सुरक्षा की प्रतिबद्धता अमेरिका की ज़िम्मेदारी है और स्वम् जो बिडेन ने इस बात की पुष्टि भी की. दोनों देशों ने ईरान को देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने से रोकने और क्षेत्र की सुरक्षा और स्थिरता को अस्थिर करने की आवश्यकता पर भी बल दिया है। सऊदी स्टेट टीवी ने बताया कि संयुक्त राज्य अमेरिका और सऊदी अरब ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन की यात्रा के दौरान ऊर्जा, संचार, अंतरिक्ष और स्वास्थ्य सेवा सहित क्षेत्रों में 18 साझेदारी समझौतों पर हस्ताक्षर किए है।

जेद्दाह में जीसीसी सम्मलेन में क्या बोले क्राउन प्रिंस  

क्राउन प्रिंस ने कहा है की ईरान को क्षेत्र के देशों के साथ सहयोग करना चाहिए तथा देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप बंद कर देना चाहिए.

सऊदी अरब द्वारा आयोजित जेद्दा सुरक्षा और विकास शिखर सम्मेलन शनिवार को छह जीसीसी देशों और मिस्र, जॉर्डन और इराक की भागीदारी के साथ शुरू हुआ – जिसे जीसीसी + 3 भी कहा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here