बिडेन ने पहली बार किया एर्दोगन को फोन, नाटो शिखर सम्मेलन के लिए किया राज़ी

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने शुक्रवार को तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन के साथ बात की, व्हाइट हाउस ने कहा, दो नाटो सहयोगियों के नेताओं के बीच पहला प्रत्यक्ष संचार था।

बहुप्रतीक्षित फोन कॉल बिडेन के 20 जनवरी को राष्ट्रपति चुनाव की जीत के तीन महीने से अधिक समय बाद पहली बार आया। हालांकि इसके एक दिन पहले बिडेन ने यह घोषणा की कि 1915 के आर्मीनियाई नरसं*हारों को ओटोमन साम्राज्य द्वारा किया गया नरसं*हार नाम देगा। हालांकि व्हाइट हाउस ने इस बारे में कोई उल्लेख नहीं किया।

व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा, “राष्ट्रपति बिडेन ने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के साथ आज बात की, जो सहयोग और असहमति के प्रभावी प्रबंधन के विस्तारित क्षेत्रों के साथ रचनात्मक द्विपक्षीय संबंधों में उनकी रुचि को बताते हैं।”

इसने कहा कि दोनों नेता जून में नाटो शिखर सम्मेलन के मार्जिन पर मिलने के लिए सहमत हुए हैं ताकि दोनों देशों के संबंधों के बारे में व्यापक बातचीत हो सके।

बता दें कि तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन के पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के करीबी सबंध रहे है। जिसका उन्होने लाभ भी हासिल किया।