बिडेन काबुल हवाई अड्डे को तुर्की को देने के लिए हुए तैयार: अमेरिकी अधिकारी

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने अफगानिस्तान के काबुल हवाई अड्डे की रक्षा में अग्रणी भूमिका निभाने के तुर्की के प्रस्ताव पर सहमति व्यक्त की है। इस बात की जानकारी अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने खुद दी है।

जेक सुलिवन ने कल पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि दोनों नेताओं ने सोमवार को ना’टो शिखर सम्मेलन से इतर अपनी बैठक के दौरान अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा की। सुलिवन के अनुसार, एर्दोगन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी और ना’टो बलों की वापसी के बाद हवाई अड्डे पर तुर्की सैनि’कों की तैनाती के बदले तुर्की के लिए कुछ अनिर्दिष्ट अमेरिकी सहायता मांगी। बाइडेन ने जाहिर तौर पर इसे स्वीकार कर लिया।

सुलिवन ने बताया, “नेताओं की स्पष्ट प्रतिबद्धता बताती है कि हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को सुरक्षित करने में तुर्की एक प्रमुख भूमिका निभाएगा। और अब हम इस पर काम कर रहे हैं कि इसे कैसे प्राप्त किया जाए।”

अफगानिस्तान में राजनयिक मिशनों के संचालन और निरंतरता के लिए काबुल में हवाई अड्डे की सुर’क्षा को महत्वपूर्ण माना जाता है। यह देश में संभावित सुर’क्षा भंग होने की स्थिति में राजनयिकों के लिए सबसे सुरक्षित निकास बिंदु के रूप में काम करेगा।

हालांकि, पिछले हफ्ते, तालि’बान ने तुर्की को अपने सैनि’कों को वापस लेने की चेतावनी दी और कहा कि हवाई अड्डे पर उसकी सै’न्य उपस्थिति का स्वागत नहीं किया जाएगा।  सुलिवन ने कहा, “निश्चित रूप से हम इस चिंता को गंभीरता से लेते हैं कि अफगानिस्तान में तालि’बान या अन्य तत्व पश्चिमी या अंतरराष्ट्रीय उपस्थिति पर हम’ला करेंगे।” “विश्वास नहीं है कि हमें तालि’बान ने सार्वजनिक रूप से जो कहा है वह उस सुरक्षा उपस्थिति को स्थापित करने के लिए अभी चल रहे प्रयासों को रोकना चाहिए।”