तनाव के बीच अमेरिकी लड़ाकू विमानों ने शंघाई के करीब भरी उड़ान

अमेरिका और चीन के बीच चल रहे तनाव उस वक्त और बढ़ गया जब अमेरिकी युद्धक विमान चीन की मुख्य भूमि तक पहुंच गए, जिनमें से एक शंघाई के 76.5 किलोमीटर तक पहुंच गया।

पेकिंग विश्वविद्यालय के एक थिंक टैंक के अनुसार रविवार को अमेरिकी युद्धक विमान पी-8 ए (पोसाइडन) और निगरानी विमान ईपी- 3ई ने ताइवान जलसंधि में प्रवेश किया और झेजियांग और फुजियान के तट के पास उड़ते नजर आए। दोनों समुद्री तटों के नजदीक चीन का शंघाई महानगर स्थित है।

हांगकांग स्थित साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की खबर के मुताबिक थिंक टैंक ने रात में  ट्वीट किया कि अमेरिकी नौसेना के पी-8ए विमान शंघाई के पास उड़ रहे थे और युद्धपोत यूएसएस राफेल पेराल्टा भी विमान के संपर्क में था। थिंक टैंक के चार्ट के मुताबिक पी-8ए विमान शंघाई के 76.5 किलोमीटर तक आ गया था जो कि हाल के सालों में चीन की मुख्य भूमि के सबसे करीब आने वाला अमेरिकी विमान था।

इससे पहले अमेरिकी सरकार ने टेक्सास प्रांत के ह्यूस्टन में चीन के वाणिज्य दूतावास को बंद करने के आदेश दिए तो चीन ने भी पलटवार में चेंगडु में अमेरिकी दूतावास को बंद कर दिया। बीजिंग का कहना है कि दूतावास को बंद करना “अमेरिका द्वारा उठाए गए अनुचित कदमों के प्रति एक वैध और आवश्यक प्रतिक्रिया” थी।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेंबिन ने पत्रकारों से कहा कि चेंगडु दूतावास में कुछ कर्मचारी “उनकी योग्यता से बाहर के कामों में लगे हुए थे और चीन के आतंरिक मामलों में हस्तक्षेप भी कर रहे थे।” इसी बीच, अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि ह्यूस्टन में चीनी दूतावास के कर्मचारियों ने अमेरिकी कॉर्पोरेट जगत की गुप्त जानकारी और मेडिकल और वैज्ञानिक शोध की मालिकाना जानकारी चुराने की कोशीश की थी, जिसे बिलकुल बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE