No menu items!
23.1 C
New Delhi
Sunday, December 5, 2021

मैक्रों ने अब सल्तनत ए उस्मानिया पर दिया विवादित बयान, एक जुट हो गए मुस्लिम…

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने अल्जीरिया में सल्तनत से उस्मानिया की उपस्थिति को ओपनिवेशिक बताकर बढ़ा विवाद खड़ा कर दिया है। जिससे दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। वहीं तुर्की ने भी साफ कर दिया कि सल्तनत ए उस्मानिया पर ओपनिवेशिकता का दाग नहीं है।

इसी बीच अल्जीरियाई मुस्लिम उलेमा के एसोसिएशन के अध्यक्ष अब्दुल-रज्जाक कसौम ने एक कॉलम में कहा, “अल्जीरिया आए ओटोमन्स औपनिवेशिक कब्जे के रूप में नहीं आए थे, बल्कि वे अल्जीरियाई लोगों के निमंत्रण पर वे आए थे… स्पेनिश क्रूसे’डर को हराने में उनकी मदद करने के लिए।”

दरअसल, 1514 और 1830 के बीच देश में तुर्क उपस्थिति की ओर इशारा करते हुए, मैक्रॉन ने दावा किया कि अल्जीरिया में “फ्रांसीसी औपनिवेशिक शासन से पहले एक उपनिवेश था।”

कसौम ने कहा कि फ्रांस के विपरीत, ओटोमन्स ने अल्जीरियाई लोगों को नहीं मा’रा, उनकी भूमि को नष्ट नहीं किया या उनके धन को लू’टा नहीं। उन्होने कहा, अल्जीरियाई लोगों के पास (ओटोमन्स के तहत) बहुत अधिक संपत्ति थी।”

उन्होंने यह भी कहा कि ओटोमन्स ने न तो अल्जीरियाई लोगों पर अपनी भाषा थोपी और न ही धार्मिक मामलो में दखलअंदाजी की। “उन्होंने कहा तुर्कों ने यहां तक ​​कि हमारे मजहब (इस्लामी स्कूल ऑफ लॉ) में भी दखलअंदाजी नहीं की।”

इसके विपरीत, कसौम ने कहा कि फ्रांसीसी औपनिवेशिक ताकतों ने अल्जीरिया के लिए “त्रास’दी” दी और उसके लोगों को “दुखी” किया।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,041FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

error: Content is protected !!