तुर्की के बजाय ईरान में हुई तालि’बान और अफगान सरकार में मुलाक़ात

ईरानी विदेश मंत्रालय ने बुधवार को तेहरान में तालि’बान प्रतिनिधियों के अफगान सरकार के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात को लेकर खुलासा किया है। ये मुलाक़ात ऐसे वक्त में हुई जब अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान को छोड़ का जा रहे है।

तेहरान वार्ता की शुरुआत करते हुए, ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने अपनी पूर्वी सीमाओं से अपने अमेरिकी दुश्मन के जाने का स्वागत किया, साथ ही चेतावनी दी: “आज अफगानिस्तान के लोगों और राजनीतिक नेताओं को अपने देश के भविष्य के लिए कठिन निर्णय लेने चाहिए।”

ईरानी मंत्रालय ने कहा कि प्रमुख वार्ताकार शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ने तालि’बान प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया, जबकि पूर्व उपाध्यक्ष यूनुस कानूनी ने सरकार का प्रतिनिधित्व किया।

मंगलवार को, अफगान अधिकारियों ने तालि’बान से खोए हुए सभी जिलों को वापस लेने की कसम खाई। दरअसल, तालि’बान के हमले के बाद 1,000 से अधिक सरकारी सैनि’क पड़ोसी ताजिकिस्तान में भाग गए है। स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि बुधवार को तालि’बान ने बदघिस प्रांत की राजधानी कलात-ए-नौ पर हम’ला किया।

बता दें कि ये मुलाक़ात तुर्की में होनी थी। लेकिन तालि’बान के पीछे हटने के बाद तालि’बान और अफगान सरकार के बीच तुर्की में होने वाली बैठक रद्द हो गई।