No menu items!
26.1 C
New Delhi
Wednesday, October 27, 2021

40 साल पहले जर्मन महिला ने अपनाया था इस्लाम, तुर्की में जाकर हुई अंतिम इच्छा पूरी

एक 83 वर्षीय जर्मन महिला जो इस्लाम धर्म अपना कर मुसलमान बनी। उनका हाल ही में नि’धन हो गया। जिसके बाद उनकी आखिरी इच्छा के अनुसार, उन्हे उत्तरी तुर्की के शहर ट्राब्ज़ोन के सर्मेने जिले में रविवार को दफ’नाया गया।

रेनैट के रूप में पहचानी जाने वाली महिला ने 40 साल पहले अपने तुर्की पड़ोसियों के साथ दोस्ती के कारण इस्लाम कबूल किया और अपना नाम एमी बाल्टाक रख लिया। जर्मनी के कोलोन में रहते हुए, वह एक नर्सिंग होम में म’र गई जहाँ वह रह रही थी।

यह जानते हुए कि मृ’त्यु के बाद उनके श’व को स्थानीय कब्रि’स्तान में दफनाया जाएगा, उन्होने अपने पड़ोसियों से अनुरोध किया कि वह उनके अव’शेषों को उनकी मातृभूमि, ट्रैबज़ोन शहर में ले जाए और एक इस्लामी तरीके से अंतिम सं’स्कार करें और उनके शरीर को इस्लामी नियमों के अनुसार द’फन करें।

Turkishakır परिवार जर्मन अधिकारियों से मिला और शरीर को तुर्की ले जाने के लिए कहा। अपनी बेटी की अनुमति से, जर्मनी में रहने वाले तुर्की नागरिकों द्वारा स्थापित मस्जिद एसोसिएशन की मदद से बाल्टेक को तेजी से तुर्की लाया गया था।

नमाज़े ज’नाजा के बाद एमाइन बाल्टेक को उसके गृहनगर से 3,500 किलोमीटर (2,175 मील) दूर दफ’नाया गया। एर्गिन आकिर जो श’व को जर्मनी से ट्रेबजॉन के सर्मेने जिले में लाए  ने अपने पड़ोसी के इस्लाम में धर्मांतरण के बारे में लोगों को जानकारी दी।

उन्होने बताया, “रिनाटे और हमारा परिवार 40 साल से दोस्त थे। उन्होंने गहन शोध करने के बाद महसूस किया कि इस्लाम उनके लिए सही धर्म है। वह मस्जिदों में गईं, उन्होंने कुरान और नमाज सीखने की कोशिश की। । उन्होने अपना जर्मन नाम एक अरबी-तुर्की नाम ‘एमाइन’ में बदल दिया और 40 साल की उम्र के बाद एक मुस्लिम के रूप में वास्तव में शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत किया, भले ही उसे अपने कुछ दोस्तों से कठोर प्रतिक्रियाएं मिलीं।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,995FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts