जज्बा और शिद्दत – 300 विकलांग लोग हज करने पंहुचे

0
155

MAKKAH — किसी भी मुस्लिम के लिए वो दिन बहुत खुशनसीबी वाला होता हिया जब उसके बुलावा हज यात्रा के लिए आता है. आम मुस्लिम अपनी ज़िन्दगी में यही सपना देखता है की उसे मक्का और मदीना का दीदार हो सके. वैसे तो ज़्यादातर हज यात्री स्वस्थ हालातों में ही हज यात्रा पर जातें है लेकिन कुछ लोगो में ऐसा जज्बा भी होता है की वो शारीरिक विकलांगता होने के बावजूद भी हार नहीं मानते. इस साल भी ऐसे ही 300 हज यात्री पहुचें है जो शरीर से विकलांग है लेकिन उनकी हिम्मत के आगे विकलांगता असफल हो गयी है.

आपको बता दें कि हज और उमराह मंत्रालय द्वारा लगातार दूसरे वर्ष शुरू की गई एक राष्ट्रीय पहल के हिस्से के रूप में, इस साल हज करने के लिए जेद्दा में किंग अब्दुलअज़ीज़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लगभग 300 विकलांग व्यक्ति हज करने के लिए पहुंचे है। यह एक बड़ी पहेल मंत्रालय द्वारा की गई है जिसमे हज करने पंहुचे तमाम विकलांगो का पूर्ण रूप से ख्याल रखा जायेगा।

विज्ञापन

इस पहल का उद्देश्य सऊदी अरब के सभी क्षेत्रों में विकलांग और अनाथ लोगों को किंगडम विजन 2030 के अनुरूप, उनकी सेवा करने के लिए राज्य की सरकार द्वारा किए गए प्रयासों के हिस्से के रूप में, आसानी और शांति के साथ हज करने में सक्षम बनाना है।

मंत्रालय उनकी परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए मक्का और पवित्र स्थलों में उनके लिए आवश्यक सभी सुविधाओं से लैस एस्कॉर्ट्स और उपयुक्त आवास प्रदान करने का इच्छुक है जिसके लिए 24 घंटे उनकी सेवा के लिए स्वयंसेवक रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here