सऊदी अरब ने भ्रष्टा’चार के मामले में जज को किया गिर’फ्तार, घोटाले की रकम सुनकर रह जाएंगे हैरान

सऊदी अरब के भ्रष्टा’चार विरोधी प्राधिकरण (नाज़ाहा) ने एक न्यायाधीश सहित कई सरकारी कर्मचारियों को गिर’फ्तार किया है। जिन पर भ्रष्टा’चार में कथित संलिप्तता के आरोप है।

एक बयान में, नाज़ाहा ने कहा कि आंतरिक मंत्रालय, लोक अभियोजन, राज्य सुरक्षा के प्रेसीडेंसी, और सऊदी सेंट्रल बैंक के कर्मचारियों और 11 निवासियों के सहयोग से 134 मिलियन डॉलर के बड़े घोटाले को अंजाम दिया गया। जिसमे रिश्तेदारों के नाम पर वाणिज्यिक संस्थाएं स्थापित कर बैंक में खाते खोल करअवैध धन जमा कराया गया। जो 505,725,336 रियाल ($134.86 मिलियन) है। फिर इस धन को विदेशों में स्थानांतरित कर दिया गया।

इसमें कहा गया है कि उन्होंने “40 से अधिक वाणिज्यिक संस्थाओं के बैंक खातों का उपयोग धन जमा करने और उन्हें विदेशों में स्थानांतरित करने के लिए” करने के लिए स्वीकार किया। मामले में हिरा’सत में लिए गए जज पर एक व्यावसायिक विवाद में रिश्व’त लेने का भी आरोप है।

आयोग ने एक विश्वविद्यालय में एक नोटरी पब्लिक और एक संकाय सदस्य को भी गिर’फ्तार किया। ये गिरफ्ता’रियां आयोग द्वारा शुरू किए गए आठ मामलों के भीतर आती हैं। पिछले मार्च में, कई मंत्रालयों के कर्मचारियों सहित कम से कम 241 लोगों को भ्र’ष्टाचार में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिर’फ्तार किया गया था।

पिछले जनवरी में, देश के बाहर 3.1 अरब डॉलर के अवैध हस्तांतरण की जांच के बाद 32 लोगों को भी गिर’फ्तार किया गया था। जिसमे कई बड़े लोग शामिल थे।