युवराज सिंह ने मांगी माफी, दलितों के लिए किया था जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल

पूर्व भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने दलितों के लिए जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल करने पर माफी मांग ली है। युवराज ने ट्विटर के जरिए कहा कि अगर उनकी बात से किसी की भावना को ठेस पहुंची, तो वह उसके लिए वह माफी मांगते हैं।

युवराज सिंह ने ट्विटर पर बयान जारी करते हुए लिखा, ‘मैं यह साफ करना चाहता हूं कि मैं रंग, जाति, पंथ या लिंग के आधार पर किसी तरह के भेदभाव में यकीन नहीं करता हूं। मैंने लोगों की भलाई में अपनी जिंदगी जी है और आगे भी ऐसा ही जीना चाहता हूं। मैं हर व्यक्ति का सम्मान करता हूं। मैं समझता हूं कि मैं अपने दोस्तों से बात कर रहा था और उस समय मेरी बात को गलत तरीके से लिया गया, जो अनुचित था। एक जिम्मेदार भारतीय होने के नाते मैं कहना चाहता हूं कि अनजाने में अगर मेरी बातों से किसी को दुख पहुंचा है तो मैं पर खेद व्यक्त करता हूं। देश और देश के लोगों से मेरा प्यार हमेशा रहेगा।’

बता दें कि पिछले दिनों रोहित शर्मा और युवराज सिंह के बीच काफी दिनों पहले एक इंस्टाग्राम लाइव चैट सेशन हुआ था। इस दौरान उन्होने युजवेंद्र चहल का मजाक उड़ाते हुए एक जातिसूचक शब्द का इस्तेमाला किया था। जिसके बाद सोशल मीडिया पर युवराज का यह वीडियो वायरल हो गया था। और लोग उनसे माफी की मांग कर रहे थे।

इस मामले में हिसार के एक वकील ने युवराज के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। अधिवक्ता रजत कलसन ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि उन्होंने एसपी हांसी को एक शिकायत की है जिसमें उन्होंने भारत के दलित समाज के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने के बारे में युवराज सिंह के खिलाफ  मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि इस टिप्पणी को पूरे देश के दलित समाज के लोगों ने देखा है तथा इस टिप्पणी से उनकी ही नहीं, पूरे देश के दलित समुदाय की भावनाएं आहत हुई  हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE