रजनीकांत होंगे दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित

अभिनेता रजनीकांत को 51 वें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस खबर की पुष्टि की।

उन्होने ट्वीट किया, “भारतीय सिनेमा के इतिहास के सबसे महान अभिनेताओं में से एक, 2020 के लिए दादासाहेब फाल्के पुरस्कार की घोषणा करते हुए खुशी हुई। अभिनेता, निर्माता और पटकथा लेखक के रूप में उनका योगदान प्रतिष्ठित रहा है। ”

केंद्रीय मंत्री ने जूरी को भी धन्यवाद दिया जिसमें आशा भोंसले, मोहनलाल, सुभाष घई, बिस्वजीत चटर्जी और शंकर महादेवन शामिल थे।

प्रकाश जावड़ेकर ने आगे कहा, ‘रजनीकांत ने अपनी प्रतिभा, मेहनत और लगन से ये स्थान लोगों के दिल में जमा लिया है। ये उनका सही गौरव है। दादा साहब फाल्के अवॉर्ड इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि दादा साहब फाल्के ने पहला सिनेमा 1913 में राजा हरिशच्रंद बनाया था। तो उस राजा हरिशचंद्र सिनेमा के बाद ये पहले चित्रपट महर्षि कहलाने लगे और दादा साहब फाल्के की मृत्यु के बाद ये अवॉर्ड उनके नाम से रखा गया और आजतक 50 बार ये अवॉर्ड दिया गया है।’

फिल्म उद्योग के उनके सहयोगियों और अन्य महत्वपूर्ण हस्तियों ने सोशल मीडिया के माध्यम से सुपरस्टार को बधाई दी। उन्हें बधाई देने वाले लोगों में से एक भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी थे। रजनीकांत ने 25 साल की उम्र में अपने फिल्मी करियर की शुरूआत की। उनकी पहली तमिल फिल्म ‘अपूर्वा रागनगाल’ थी। इस फिल्म में उनके साथ कमल हासन और श्रीविद्या भी थीं।