नीरज चोपड़ा ने ओलंपिक में भारत के लिए गोल्ड मेडल हासिल कर रचा इतिहास

0
661

भारतीय जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में भारत को गोल्ड मेडल दिलाकर इतिहास रच दिया। नीरज ने 87.58 की सर्वश्रेष्ठ दूरी तय करते हुए गोल्ड मेडल हासिल किया है। इसके साथ ही वह व्यक्तगित प्रतिस्पर्धा में गोल्ड जीतने वाले एथलेटिक्स में पहले भारतीय एलीट बन गए गए हैं।

बता दें कि 2008 बीजिंग ओलंपिक के बाद भारत ने पहली बार गोल्ड मेडल हासिल किया है। इससे पहले अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग ओलंपिक (2008) के 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। ये ओलंपिक में भारत का कुल दूसरा व्यक्तिगत गोल्ड है। इससे पहले भारत ने हॉकी में 8 गोल्ड मेडल जीते हैं।

विज्ञापन

नीरज ने अपने पहले थ्रो में 87.03 मीटर दूर भाला फेंका, जबकि पहले राउंड की दूसरी कोशिश में नीरज के भाले ने 87.58 मी. की दूरी मापी। तीसरे प्रयास में नीरज  ने 76.79 मी. दूर भाला फेंका। पहले राउंड में 12 खिलाड़ियों से 8 ने अगले दूसरे और फाइनल राउंड में जगह बनाई।

इस प्रतिस्पर्धा का रजत पदक चेक गणराज्य के जैकब वैदलेक (86.67) और कांस्य पदक भी चेकगणराज्य के ही लंदन ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले और 38 साल के वितेजस्लेव वेसली (85.44 मी.) के खाते में गया। नीरज चोपड़ा के पूरे देश को गोल्ड मेडल जीतने की पहले से ही उम्मीद थी।

टोक्यो ओलंपिक में भारत अब 1 गोल्ड 2 सिल्वर और 4 कांस्य सहित कुल 6 मेडल जीत चुका है। इससे पहले कुश्ती में बजरंग पुनिया ने कांस्य, पहलवान रवि दहिया और भारोत्तोलन में मीराबाई चनू ने रजत, बैडमिंटन में पीवी सिंधु और बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन और भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने कांस्य पदक जीता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here