5G नेटवर्क मामले में जूही चावला ने दिल्ली हाईकोर्ट से वापस ली अपनी याचिका

0
395

देश में 5जी नेटवर्क लागू करने के खिलाफ अदालत पहुंची बॉलीवुड अभिनेत्री जूही चावला ने दिल्ली हाईकोर्ट से अपनी याचिका वापस ले ली है। जिसमे उन्होने हाईकोर्ट से पहले के आदेश में संशोधन की मांग की थी। इस आदेश में अदालत ने उन पर 20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था।

गुरुवार को न्यायमूर्ति जयंत नाथ ने चावला के वकील दीपक खोसला के अभिवेदन के बाद याचिका वापस लेने की अनुमति दी। बता दें कि जुही चावला अपनी याचिका के जरिये चाहती थी कि मुकदमे में ‘खारिज’ शब्द को बदलकर ‘अस्वीकार्य’ कर दिया जाए।

विज्ञापन

अदालत ने कहा, ‘‘वादी (चावला) के वकील अपीली न्‍यायालय में समाधान प्राप्‍त करने की स्‍वतंत्रता के साथ याचिका वापस लेना चाहते हैं। याचिका वापस लेने की इजाजत देते हुए इसे खारिज किया जाता है।’’ हालांकि चावला के वकील ने दलील दी कि वाद ‘मुकदमे के स्तर तक कभी नहीं पहुंचा ‘ और उसे केवल दीवानी प्रक्रिया संहिता के तहत अस्वीकार या वापस किया जा सकता है, लेकिन खारिज नहीं किया जा सकता है।

इससे पहले जुही चावला ने याचिका दायर कर दावा किया था कि 5जी वायरलेस तकनीली योजनाओं से मनुष्यों पर गंभीर, अपरिवर्तनीय प्रभाव और पृथ्वी के सभी इकोसिस्टम को स्थायी नुकसान पहुंचने का खतरा है। अगर दूरसंचार उद्योग की 5जी संबंधी योजनाएं पूरी होती हैं तो पृथ्वी पर कोई भी व्यक्ति, कोई जानवर, कोई पक्षी, कोई कीट और कोई भी पौधा इसके प्रतिकूल प्रभाव से नहीं बच सकेगा।

इस पर न्यायमूर्ति जे आर मिढ़ा ने कहा था कि जिस वाद में 5जी प्रौद्योगिकी के कारण स्वास्थ्य संबंधी खतरों के बारे में सवाल उठाए गए हैं, वह ‘सुनवाई योग्य नहीं है’ और यह ‘अनावश्यक चौंका देने वाले , तुच्छ और परेशान करने वाले बयानों से भरा हुआ है’ जो खारिज किए जाने योग्य हैं।

कोर्ट ने जूही चावला के मुकदमे को ‘दोषपूर्ण’ करार देते हुए कहा कि वह ‘मीडिया प्रचार’ के लिए दायर किया गया था। साथ ही उन पर 20 लाख रुपए का भी जुर्माना लगाया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here