Coronavirus: कनिका कपूर के खिलाफ यूपी पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

बॉलीवुड गायिका कनिका कपूर के खिलाफ लखनऊ के सरोजनी नगर थाने में दर्ज एफआईआर में दर्ज की गई है।  इस बात की जानकरी पीटीआई ने ट्वीट कर दी है। ट्वीट के मुताबिक लखनऊ पुलिस चीफ ने कहा, “बॉलीवुड सिंगर जिनका कोरोनावायरस (Coronavirus) का टेस्ट पॉजिटिव आया है, उन पर लापरवाही के लिए एफआईआर दर्ज हुई है।”

एफआईआर में लिखा है कि कनिका को एयरपोर्ट पर ही संक्रमित पाया गया था। उन्हें होम क्वारंटीन रहने के निर्देश दिए गए थे, जबकि एयरपोर्ट पर कोरोना के वायरस की जांच का कोई इंतजाम ही नहीं है।  सीएमओ अपनी ही तरफ से की गई एफआईआर में फंस भी रहे हैं। नियमत: कनिका के संक्रमण की जानकारी मिलते ही उन्हें उसके उपचार के लिए स्वास्थ्य विभाग को जरूरी निर्देश देने चाहिए थे, जबकि उन्होंने होम क्वारंटीन कहकर पूरा मामला रफा-दफा कर दिया।

बता दें कि कोरोना टेस्ट पॉजिटिव मिलने के बाद उन्हें लखनऊ के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया और उनके माता-पिता को घर में ही क्वारंटाइन किया गया है। एक टीवी चैनल से बात करते हुए कनिका कपूर ने उन सभी खबरों का खंडन किया है जिसमें यह कहा जा रहा है कि वह एयरपोर्ट से छुपकर भागी थी और वह दो से तीन पार्टियों में गई जहां उनके संपर्क में तीन से 400 लोग आएं हैं।

कनिका कपूर ने कहा कि अब मुझे बुखार है और एक अस्पताल में हूं। यहां खाने और पीने को पानी भी नहीं है। मेरे क्या इलाज होगा मुझे नहीं पता है। यहां एक डॉक्टर ने मुझे डराया कि आप कुछ गलत करके आई हैं और हम आपके खिलाफ केस दर्ज कराने जा रहे हैं और इसके चलते मैं थोड़ी घबराई हुई हूं।

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि मैं एयरपोर्ट से छिपकर क्यों निकलूंगी और कैसे निकलूंगी। ये बात क्यों और किसने फैलाई है मुझे नहीं पता है। एयरपोर्ट पर मेरा मेडिकल चेकअप हुआ था और मैंने फॉर्म भी भरा था। जब मैं भारत लौटी थी तो मेरी तबीयत बिल्कुल ठीक थी लेकिन पिछले तीन दिनों से मेरी तबीयत खराब हुई है। मैंने खुद ही सीएमओ को फोन करके अपनी बीमारी के बारे में बताया था। उन्होंने मुझे कहा था कि आप घर में आराम करें और उन्हें मेरा टेस्ट करने में दो दिन का समय लगा। दो दिन बाद जब मेरा टेस्ट हुआ तो वो पॉजीटिव आया।

कनिका ने बताया कि मैं नौ मार्च को लंदन से अपने बच्चों से मिलने के बाद दिल्ली आई थी और लखनऊ में अपने माता-पिता के यहां ठहरी थीं। उन्होंने बताया कि मेरे माता-पिता ने कहा था कि समय ठीक नहीं है इसलिए घर लौट आओ। नौ तारीख को हालात इतने खबर नहीं थे किसी ने मुझे 14 दिन अलग रखने को नहीं कहा था। उन्होंने कहा कि मैं मेरे दोस्त के घर एक छोटी पार्टी में गई थी और इसके अलावा में किसी पार्टी में नहीं गई हूं। इस पार्टी में यूपी सरकार के कई अधिकारी और मंत्री शामिल थें।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]