Home राष्ट्रिय गुजरात चुनावो में प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियो की फ़ौज उतारे जाने पर...

गुजरात चुनावो में प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियो की फ़ौज उतारे जाने पर रविश का तंज कहा,प्रेस क्लब के चुनाव से प्रधानमंत्री दूर क्यों हैं?

4
SHARE

ravish

नई दिल्ली । जैसे जैसे गुजरात चुनाव नज़दीक आ रहे है वैसे वैसे दोनो बड़ी पार्टियाँ कांग्रेस और भाजपा का प्रचार भी ज़ोर पकड़ने लगा है। जहाँ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का गुजरात दौरा आज से शुरू हो रहा है वही प्रधानमंत्री मोदी 27 नवम्बर से चुनाव प्रचार के लिए गुजरात पहुँचेंगे। हालाँकि भाजपा गुजरात चुनावो में जीत को लेकर काफ़ी आश्वस्त है लेकिन हाल के दिनो में राहुल गांधी की बढ़ी हुई सक्रियता उनको थोड़ा चिंतित ज़रूर किया है।

यही वजह है कि भाजपा, प्रधानमंत्री मोदी समेत, 50 केंद्रीय मंत्री, 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियो को चुनाव प्रचार में लगा रही है। बताया जा रहा है की मोदी गुजरात में क़रीब 35 रैलियों को सम्बोधित करेंगे। मतलब साफ़ है की आने वाले कुछ दिन केंद्र सरकार गुजरात से चलेगी। अब इस पर एनडीटीवी के ऐंकर और पत्रकार रविश कुमार ने तंज कसा है। उन्होंने अपने फ़ेस्बुक पेज पर लिखी एक पोस्ट में कहा की प्रेस क्लब के चुनाव से प्रधानमंत्री दूर क्यों है?

उन्होंने पूछा,’मुझे तो हैरानी हो रही है कि शनिवार को दिल्ली प्रेस क्लब के चुनाव के लिए अभी तक बीजेपी का कोई मंत्री या मुख्यमंत्री प्रचार करने क्यों नहीं पहुंचा है? कम से कम प्रधानमंत्री को तो एक रोड शो करना ही चाहिए। जब तक पीएम का रोड शो न हो तब तक प्रेस क्लब का चुनाव ही न हो। मन की बात भी करें, जिसे हर न्यूज़ चैनल के दफ्तर के बाहर बजाया जाए और वहां केंद्र के मंत्री खड़े होकर पत्रकारों को सुनवाएं। वैसे भी प्रेस क्लब वाले भी गुजरात गए पत्रकारों को फोन कर रहे हैं कि लौट आओ और हमें वोट दो।’

रविश कुमार बेहद तंज भरे लहजे में आगे लिखते है,’ चुनाव लड़ना कोई बीजेपी से सीखे। जल्दी ही बीजेपी के मुख्यमंत्री, मंत्री और केंद्रीय मंत्री अधिवक्ता और शिक्षक संघों के चुनाव में भी प्रचार करने पहुंच जाएंगे। आने वाले वक्त में डर के मारे कोई नहीं बताएगा कि उसके यहां चुनाव है, वरना क्या पता बीजेपी का कोई मंत्री आ जाए। बीजेपी को अपने इन मंत्रियों को एक चुनाव किट देना चाहिए जिसमें कैमरा हो, माइक हो, लाउड स स्पीकर हो, फेसबुक लाइव के लिए जीओ का सिम हो। अगर बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों को भारत में रखना है तो ज़रूरी है कि भारत में चुनाव होते रहें, वर्ना ये लोग अगली फ्लाईट से रूस और बेला रूस के चुनावों में भी रैली करने पहुंच जाएंगे।’

पढ़े पूरी पोस्ट