Home स्वास्थ यह है हकलाने और तुतलाने का बेहतरीन ईलाज

यह है हकलाने और तुतलाने का बेहतरीन ईलाज

642
SHARE

हकलाना या तुतलाना जिसे English में stammering या stutter के नाम से जाना जाता है और इसका ilaj और treatment घर पर ही संभव है । अगर सीधे सीधे शब्द में समझे तो हकलाने का मतलब होता है रुक रुक कर बोलना। ये problem आमतौर पर 3 से 5 साल के बच्चो में पाई जाती है।

अगर इसका जल्द से जल्द इलाज़ नहीं कराया गया तो ये problem बढ़ती उम्र के साथ हमेशा के लिए रह जाती है। किसी भी शब्द या पंक्ति को शुरू करने में परेशानी होना, एक हीं शब्द को बार बार  दोहराना, बोलते समय आँखें भीचना, होठों में कपकपाहट होना, पैरो को ज़मीन पर थपथपाना, जबड़े का हिलना आदि ये सब हकलाने के लक्षण है।

तो आइए जानते है कैसे इस haklane ke problem से छुटकारा पाया जाये।

1039f315d16812117ea1a2d6bc1be305079826f5

Haklane / Tutlana ka ilaj (हकलाने का इलाज)

  1. आयुर्वेद के मुताबिक हकलाने की problem में ब्राह्मी तेल (Brahmi oil) के इस्तेमाल को बहुत हीं फायदेमंद बताया गया है। ब्राह्मी तेल (Brahmi oil) को हलका गर्म कर के week में कम से कम दो बार 15 से 20 मिनट तक सर का मसाज करने से हकलाने की problem ख़त्म होती है।
  1. अगर आपके बच्चो को हकलाने की problem है तो उन्हें regular (कम से कम 2 month तक) कम से कम एक आँवले का सेवन कराना चाहिए। हरा आँवला या फिर आँवले का powder दोनों हीं हकलाहट में फायदेमंद होता है। हर रोज सुबह सुबह एक चम्मच सूखे आँवले के powder को एक चम्मच गाय के घी के साथ लेने से हकलाहट कम होती है।
  1. हकलाहट में बादाम (Almond) के सेवन करने से भी बहुत फायदा होता है। इसे इस्तेमाल करने का तरीका है :-
  • रात को बादाम के 4 से 5 दाने को पानी में फूलने के लिए छोड़ दे।
  • सुबह उस बादाम को पानी से निकाल कर उसके उसके छिल ले।
  • फिर छिले हुए बादाम को पीस लें।
  • फिर 30 g मक्खन के साथ पिसे हुए बादाम का सेवन करे।
  • regular इसके सेवन करने से हकलाहट से छुटकारा मिलती है।
  1. मक्खन के साथ बादाम का सेवन करना तो फायदेमंद है हीं साथ हीं मक्खन के साथ काली मिर्च का भी सेवन करने से फायदा होता है। अगर आप हर रोज सुबह सुबह एक चम्मच मक्खन में एक चुटकी काली मिर्च (Black Pepper) मिला कर खाते है तो आपकी हकलाने की problem दूर हो जाएगी।
  1. अगर आप बचपन से हीं छुआरों का सेवन करते है तो आपकी आवाज़ साफ़ हो जाएगी साथ हीं शब्दों का उच्चारण भी सही तरीके से कर सकेंगे। छुआरे का सेवन करने से हकलाहट की समस्या भी दूर हो जाती है। रोजाना रात को सोने से पहले एक या दो छुआरा खा कर उसके बाद कम से कम 2 घंटों तक पानी न पीयें। लगभग 10 से 15 दिनों तक ऐसा करने से आपके आवाज़ को आराम मिलेगा। साथ हीं साथ हकलाना भी ख़त्म हो जायेगा।
  1. मिश्री भी हकलाहट को दूर करने में काम आती है। अगर आप प्रतिदिन बादाम के 10 दाने ,काली मिर्च के 10 दाने और मिश्री के कुछ दाने को एक साथ पीस कर लगभग दस दिन तक सेवन करेंगे तो आपकी हकलाहट दूर हो जाएगी।